Posts

Showing posts from February, 2019

Essay on Crow in Hindi | कौवा पर निबंध

Image
Essay on Crow in Hindi | कौवा पर निबंध 
कौवा जंगलों और मनुष्य के निवास स्थानों में पाया जाने वाला पक्षी है। यह पक्षी ज्यादातर पेड़ों पर झुंड बनाकर रहता है। यह चालाक पक्षियों की श्रेणी में आता है। अक्सर जह घरों में रोटी के टुकड़ों को पलक झपकते ही चुरा कर ले जाता है। कभी-कभी तुझे छोटे बच्चों के हाथों से चीजें भी छीन लेता है।खतरा महसूस होने पर यह कांय - कांय की आवाज लगाना शुरू कर देते हैं। इसे बिल्ली से ज्यादा खतरा बना रहता है यह बिल्ली को देखते ही जोर जोर से आवाजनिकालना शुरू कर देते हैं जिससे दूसरे कौवे भी सावधान हो जाते हैं। जंगल और पहाड़ों पर रहने वाले कौवे पूरी तरह से काले रंग के होते हैं। जब के गांवों और शहरों में रहने वाले कौवे काले और सलेटी रंग के होते हैं।
जब कौवा घर की छत पर बैठकर जोर जोर से कांय कांय करने लगे तो इसे किसी मेहमान के आने का संदेश माना जाता है। कोयल पक्षी कौवा के घोंसले में अंडे देती है और कौवे को पता ही नहीं चलता और मादाकौआ अंडो पर बैठकर उन्हें सेती है जिससे कोयल के बच्चे जन्म लेते हैं। कोयल के बच्चे भी कौआ के बच्चे की तरह होते हैं।भारत में कौवा की बहुत सारी प्रजाति…

Poem on Sparrow in Hindi | चिड़िया पर कविता

Image
गौरैया एक घरों में पाया जाने वाला छोटा सा पक्षी होता है। जो के घरों की छतों , विलों आदि में अपना घौंसला बनाती है। किन्तु ज्यादा शहरीकरण बढ़ता प्रदूषण और पक्के मकानों के कारण आज यह नन्हा पक्षी लगभग विलुप्त होने की कगार पर पहुंच चुका है आज हमें जरूरत है जागरूक होने की ता जो इस नन्हे पक्षी को बचाया जा सके। Poem on Sparrow in Hindi | चिड़िया पर कविता 

किरणों के रंगों में 
चहक पंखुड़ी धो ली है 
देखो उस चिड़िया को 
वह कितनी भोली है 
धूलों में लोटती वह 
मधुर उसकी बोली है 
देखो आज खुश बहुत 
खुशियों की रंगोली है 

फुदक - फुदक खेतों में 
हर तरफ वह डोली है 
प्यारे - प्यारे नन्हे पौधे 
अंकुर ने आंखें खोली हैं 
छोटे से पंखों में वह 
उड़ान संजों ली है 
झूमना पत्तों के संग 
उसी हंसी ठिठोली है 
उसकी यही होली है 

  परवीन कुमार 

Essay on Republic Day in Hindi | गणतंत्र दिवस पर निबंध

Image
Essay on Republic Day in Hindi | गणतंत्र दिवस पर निबंध 

Essay on Republic Day in Hindi गणतंत्र दिवस को भारत के राष्ट्रीय पर्व के तौर पर मनाया जाता है यह राष्ट्रीय पर्व पर हर वर्ष 26 जनवरी वाले दिन पूरे देश भर में मनाया जाता है। इस दिन भारत का संविधान लागू हुआ इस दिन भारत को गणतंत्रिक राष्ट्र घोषित कर दिया गया था। भारत को सन 1947 में अंग्रेजों से मुक्ति मिली इसके बाद भी भारत एक स्वशासित देश नहीं था। लगभग 3 वर्षों के बाद सन् 1950 मैं भारत का संविधान बना जिससे भारत एक संघ शासित देश बन पाया। इसीलिए हर वर्ष इस दिन को रिपब्लिक डे या फिर गणतंत्र दिवस के रूप में धूमधाम से पूरे देश में मनाया जाता है।
गणतंत्र दिवस के अवसर पर 26 जनवरी को नई दिल्ली के इंडिया गेट के राजपथ पर होने वाली परेड बहुत खास होती है। गणतंत्र दिवस की परेड वह मौका होता है जब देश के विभिन्न राज्य देश विदेश के लोगों को अपने प्रदेश की कला संस्कृति , गौरवशाली इतिहास , समृद्ध विरासत और विकास को झांकियों के माध्यम से दिखाते हैं।
इसके साथ ही केंद्र सरकार के विभिन्न मंत्रालय भी अपने विभागों की बड़ी उपलब्धियों को इन के द्वारा दिखाते हैं …